Domain Name क्या है? – What Is Domain Meaning In Hindi

Published by Saurav Bhagat on

आज के समय में जो भी टेक्निकल फील्ड से जुड़े हुए हैं उन सबने डोमेन नेम का नाम सुना ही होगा लेकिन ऐसे बहुत सारे लोग हैं जिन्हें डोमेन नेम, वेबसाइट, यूआरएल सभी एक ही लगते हैं। इसलिए कई लोग जानना चाहते हैं की Domain Name Kya hai? और यह कैसे काम करता है?

आज के इस आर्टिकल में हमलोग domain name Kya hai, domain meaning in hindi, Domain Name के प्रकार, domain in hindi, domain meaning in computer, Domain कैसे काम करता है, domain name means, domain name definition, इत्यादि के बारे में जानेगें।

अगर आप एक ब्लॉगर है या फिर ब्लॉगर बनना चाहते हैं तो आपने डोमेन नेम के बारे में जरूर सुना होगा। अगर कोई वेबसाइट और ब्लॉग बनाने की सोच रहा है तो सबसे पहले उसे वेबसाइट का नाम रखना होता है, और इसी नाम को रखने के लिए डोमेन नेम की जरुरत पड़ती है।

जी हाँ दोस्तों, अगर आप अपने वेबसाइट का नाम रखना चाहते हैं तो इसके लिए आपको web pages का पता देना होता है और इसी काम को करने के लिए हमें डोमेन नेम की जरुरत पड़ती है।

वैसे देखा जाए तो बहुत से लोगो को डोमेन नेम के बारे में पता तो होता है लेकिन इसकी पूरी जानकारी बहुत काम लोगों के पास होती है।

इसलिए मैंने सोचा आज आपको डोमेन नेम से संबंधित सारी जानकारी पुरे विस्तार में बता दूँ ताकि आपको एक ही जगह सारी जानकारी मिल जाए और आपको कहीं और ना जाना पड़े।

domain name kya hai

Domain Name क्या है (Domain Meaning In Hindi) :-

Domain Name सभी वेबसाइट का एक तरह का एड्रेस होता है, जिसकी मदद से हम इंटरनेट पर किसी भी वेबसाइट को बहुत ही आसानी से पहचान पाते हैं।

डोमेन नेम सभी वेबसाइट का अलग-अलग होता है ताकि सभी वेबसाइट को आसानी से पहचाना जा सकें। डोमेन नेम बनाया ही इसलिए गया है ताकि सभी वेबसाइट की अलग-अलग पहचान हो सकें।

आप इसी डोमेन नेम की मदद से आप अपनी वेबसाइट का नामांकरण कर सकते हैं। और एक यूनिक और अच्छा सा नाम अपने वेबसाइट के लिए रख सकते हैं।

आपकी जानकारी के लिए बता दूँ की हर एक वेबसाइट का अपना एक IP address होता है और इसी एड्रेस की मदद से अलग-अलग वेबसाइट तक पहुंचा जाता है।

IP address नंबर के फॉर्मेट में लिखा होता है कुछ इस तरह से 87.972.28.368 और इसे हर अलग-अलग वेबसाइट के लिए अलग-अलग नंबर याद रख पाना बहुत ही मुश्किल है।

अगर आपको किसी वेबसाइट पर जाने के लिए इस तरह के IP address नंबर डालना पड़े तो आपके लिए बहुत ही मुश्किल का काम हो जाएगा। क्युकी आपको हर वेबसाइट के लिए अलग-अलग नंबर याद रखना पड़ेगा, जो की बहुत ही कठिन काम हो जाएगा।

इस तरह की समस्या का समाधान निकालना बहुत ही जरुरी था। इसलिए डोमेन नेम बनाया गया है, ताकि आपको इतने सारे नंबरों को याद ना रखना पड़े।

इसलिए आज के समय में किसी वेबसाइट को खोजने के लिए IP address नंबर डालने की जरुरत नहीं है, सीधे आप डोमेन नेम लिखकर अलग-अलग वेबसाइट को खोज सकते हैं।

Domain Name के प्रकार :-

डोमेन नेम के बहुत से प्रकार होते हैं लेकिन मैं आपको कुछ महत्वपुर्ण Domain Name के प्रकार ही बताऊंगा ताकि आपको इसे समझने में आसनी हो।

आपने सभी वेबसाइट नाम के अंत में .com, .in, .org, .net, .gov, इत्यादि लिखा देखा होगा और यही आखिर के शब्द डोमेन नेम के प्रकार होते हैं।

तो चलिए एक-एक करके जानते हैं की Domain Name के कितने प्रकार होते हैं –

1. TLD – Top Level Domains :-

डोमेन नेम का यह प्रकार बहुत ही पॉपुलर है और इस तरह के डोमेन का इस्तेमाल दुनिया भर की बड़ी-बड़ी कंपनी और बड़े-बड़े ब्लॉगर करते हैं।

Top Level Domains आपके वेबसाइट और ब्लॉग को रैंक करवाने में मदद करता है और साथ ही इसे सभी सर्च इंजन के ब्राउज़र भी बहुत इम्पोर्टेंस देते हैं। इसे आप बहुत आसानी से खरीद सकते हैं।

# Examples of Top Level Domains –

  • .com (commercial)
  • .net (network)
  • .org (organization)
  • gov (government)
  • .edu (education)
  • .info (information)
  • .biz (business)

2. CcTLD – Country Code Top Level Domains :-

डोमेन नेम का यह प्रकार किसी एक देश को ध्यान में रखकर ख़रीदा जाता है। इस प्रकार का डोमेन सभी देश के Two Letter ISO CODE के नाम पर आधारित होता है।

# Examples of Top Level Domains –

  • .in – India
  • .us – United States
  • .uk – United Kingdom
  • .ru – Russia
  • .br – Brazil
  • .fr – France

## इसे भी पढ़े :-

Web Hosting क्या है?

On-Page SEO क्या है?

Domain कैसे काम करता है :-

सभी वेबसाइट को स्टोर करने के लिए एक सर्वर की जरुरत पड़ती है। और इसी सर्वर पे डोमेन नेम का IP address मौजूद होता है।

जब आप इंटरनेट पे किसी सर्च ब्राउज़र में कोई सा भी वेबसाइट का डोमेन नेम डालते हैं तो यह Domain Name System (DNS) के पास जाता है।

DNS को यह जानकारी पहले से ही पता होती है की वेबसाइट का IP address क्या है और ये कौन से सर्वर पे स्टोर है।

DNS उस डोमेन को IP address में बदलता है ताकि IP address से पता लगाया जा सकें की वेबसाइट कौन से सर्वर पर मौजूद या स्टोर है।

अंत में वेबसाइट के सर्वर को request भेज दिया जाता है और सर्वर उस request को प्रोसेस करता है और जब प्रोसेस पूरा हो जाता है तो फिर इंटरनेट को डाटा भेज देता है।

Subdomain क्या होता है :-

Subdomain एक domain का ही हिस्सा होता है। यह एक ऐसी प्रक्रिया होती है, जिसमें डोमेन को अलग-अलग बहुत सारे भागों में बांटा जा सकता है।

जैसे मेरे वेबसाइट का डोमेन नेम upgradethinking.com है और इसे subdomain  में बाँटना है तो इसे कई तरह से बाँट सकते हैं। जैसे – hindi.upgradethinking.com, english.upgradethinking.com, store.upgradethinking.com, इत्यादि।

यहाँ पर upgradethinking.com एक डोमेन नेम है और “hindi” “english” और “store” subdomain name है।

अगर आपके पास डोमेन नेम है तो आप इसे अलग-अलग बांटकर subdomain बना सकते हैं। इसके लिए आपको कोई पैसे खर्च करने की जरुरत भी नहीं है क्यूंकि यह प्रक्रिया बिल्कुल फ्री है।

इस तरह की प्रक्रिया को बड़ी-बड़ी website भी फॉलो करती है। आपको इंटरनेट पर बहुत सारे बड़ी वेबसाइट मिल जाएंगे जो subdomain बनाकर वेबसाइट चला रहे हैं। जैसे – Wikipedia, Quora, इत्यादि।

## इसे भी पढ़े :-

SEO क्या है और सर्च इंजन कैसे काम करता है?

Off-Page SEO क्या है?

Domain Name और URL में क्या अंतर है :-

Domain Name और URL दोनों ही वेबसाइट के एड्रेस होते हैं। लेकिन इन दोनों में बहुत अंतर होता है, जिसे बहुत कम लोग ही समझ पाते हैं और इन दोनों के बीच हमेशा कन्फ्यूज्ड रहते हैं।

तो चलिए इसे एक उदाहरण से समझते हैं –

https://upgradethinking.com/domain-name-kya-hai

ऊपर बताये गए उदाहरण में https एक protocol है, upgradethinking.com एक domain name है, और यह domain-name-Kya-hai लिखा हुआ हिस्सा path है। और अगर इसे पूरा मिला दे तो यह एक URL बन जाता है।

अब आप इस उदाहरण को देखकर समझ ही गए होंगे की Domain Name और URL में क्या अंतर होता है।

Domain Name यूआरएल का एक छोटा सा हिस्सा होता है जो वेबसाइट के नाम को दर्शाता है, जबकि URL एक वेबसाइट के पोस्ट और पेज का पूरा एड्रेस होता है।

Domain Name कैसा होना चाहिए :-

  • आपको डोमेन नेम ऐसा बनाना है जो बोलने, लिखने, और याद रखने में बिल्कुल ही आसान हो I
  • आपको हमेशा डोमेन नेम छोटा रखना है ताकि देखने में सही लगे और उसे याद रखने में भी आसानी हो I
  • आप अपने डोमेन नेम में किसी भी तरह के नंबर, स्पेशल करैक्टर का इस्तेतमाल ना करें I
  • आपको एक बात हमेशा ध्यान रखनी है की आपका डोमेन नेम किसी से मिलता-जुलता नहीं होना चाहिए I
  • आपको हमेशा टॉप लेवल डोमेन ही खरीदना चाहिए और इन्ही का इस्तेमाल करना चाहिए ताकि आपकी वेबसाइट सभी जगह आसानी से पॉपुलर हो सकें I

## इसे भी पढ़े :-

Blog क्या है और इसे कैसे बनाया जाता है? 

WordPress क्या है और इसका इस्तेमाल कैसे किया जाता है?

Domain Name कहाँ से खरीदे :-

अगर आपको एक वेबसाइट और ब्लॉग बनानी है तो आपको सबसे पहले एक Domain Name की जरुरत पड़ेगी। तो अब सवाल आता है की Domain Name कहाँ से खरीदे?

आज के समय में ऐसे बहुत सारे डोमेन प्रोवाइडर वेबसाइट है, जहाँ से आप अलग-अलग प्रकार के बहुत सारे डोमेन नेम खरीद सकते हैं।

आपको वेबसाइट और ब्लॉग बनाने के लिए सबसे पहले वेबसाइट का नाम रखना होता है। इसके लिए आपको डोमेन नेम रजिस्टर करना होता है और इसके बाद इसे खरीदना पड़ता है।

तो चलिए देखते है कुछ ऐसे वेबसाइट और डोमेन प्रोवाइडर का नाम जहाँ से आप डोमेन नेम रजिस्टर कर के खरीद सकते हैं :-

वैसे तो इनके अलावा भी बहुत सारे वेबसाइट और डोमेन प्रोवाइडर इंटरनेट पर मौजूद है, जहाँ आप डोमेन नेम खरीद सकते हैं। लेकिन ऊपर बताये गए सभी वेबसाइट बहुत ही पॉपुलर है।

आपको हमेशा यह ध्यान रखना चाहिए की जहाँ से भी आप डोमेन नेम ख़रीदे वह ICANN (Internet Corporation For Assigned Names And Numbers) से authorize होनी चहिये।

ICANN एक ऐसी संस्था है जो डोमेन प्रोवाइड करने वाली कंपनी को डोमेन नेम बेचने के लिए अथॉरिटी प्रदान करती है।

## इसे भी पढ़े :-

◆ White Hat SEO क्या है?

◆ Black Hat SEO क्या है?

आज आपने क्या सीखा :-

आज के इस पोस्ट में आपने Domain Name के बारे में बहुत कुछ सीखा होगा जैसे- Domain Name Kya hai, Domain meaning in hindi, domain in hindi, Domain कैसे काम करता है, Domain Name के प्रकार, इत्यादि।

मुझे उम्मीद हैं की आपको Domain Name के बारे में सारी जानकारी सब-कुछ अच्छे से समझ आ गए होंगे और Domain Name से संबंधित सारे प्रश्नो का जवाब भी मिल गए होंगे।

अगर आप मुझसे Domain Name, Subdomain, और इससे सम्बंधित कुछ भी पूछना चाहते हैं तो आप नीचे Comments Section में पूछ सकते हैं।

अगर आपको हमारा यह पोस्ट अच्छा लगा हो और हर बार की तरह कुछ नया सिखने को मिला हो तो आप इस पोस्ट को अपने सोशल मीडिया अकाउंट और अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें।


Saurav Bhagat

I am a passionate Blogger, Content Writer, SEO expert, and Freelancers.

2 Comments

Kavi · September 21, 2021 at 4:18 pm

Very informative and helpful article.

Leave a Reply